Maestro Ercole

Maestro Ercole

मदर टेरेसा को मास्टर हरक्यूलिस की कविता

मदर टेरेसा को मास्टर हरक्यूलिस की कविता

 मदर टेरेसा कोमेरा बगीचा कितना बंजर था:शुष्क, शुष्क, निर्जीव।आज मैं तुमसे मिला,मैं तुम्हारा हाथ पकड़ रहा था:गर्म, झुर्रीदार, स्वागत करने वाला।तेरी मुस्कान की रोशनीमेरे चेहरे को रोशन करो।मैंने नहीं देखा...

Page 1 of 2 1 2

Welcome Back!

Login to your account below

Create New Account!

Fill the forms below to register

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.